Nature in Hindi

प्रकृर्ति (हिंदी)

Essay on nature in Hindi

 

Nature in Hindi 

 

   Nature in Hindi :            प्रकृर्ति यह नाम सुनकर हमारे मन में पहले आता है की एक हरा -भरा बगीचा है lऔर उसेके बीच में एक बडासा विशाल पेड है । यह हमारे मन में आता है । आपके भी यह ही आता होगा या शायद अलग आता हो, तो हमे comment box में comment करके बातए । दोस्तों हम आज आपको प्रकृर्ति के बारे में पूरी जानकारी देने वाले है । यह एक निबंध की तरह भी है । तो चलिए हम प्रकृर्ति के बारे में जान लेते है ।

     प्रकृर्ति एक भगवाने बनाया हुआ एक स्वर्ग है । प्रकृर्ति यह एक अपने-आप में ही एक पहलु है । प्रकृर्ति से प्राप्त हुई हर चीज मौल्यवान तोफा है । प्रकृर्ति यह हमारी माँ जैसी होती है । यह हमे सब कुछ देती है । जन्मसे लेकर मरने तक । हम प्रकृर्ति के ही बनाया हुआ अंश है । प्रकृर्ति यह एक पेड़ है और हम उसके ऊपर रहने वाले पत्ते की तरह है । प्रकृर्ति के हमारे ऊपर बहुत सारे उपकार हैं । जिसे हम कभी भर नही सकते है परंतु हम थोडीसी मदद जरूर कर सकते है । हमे बस जीवन में कमसे कम एक पौधा जरूर लगाना है ।

    प्रकृर्ति यह एक चैन की होती है । इनमेसे एक भी चेन टूट गई तो इसका बहुत ही बुरा प्रभाव पड़ सकता है । हम इसे एक उदारण की तोर देखते है । *घास को बकरी खाती है और बकरी को शेर खाता है । यह भी एक प्रकृर्ति की चेन की तरह है । मानलीजे शेरने बकरी खाना बंद कर दिया तो । इस पृथ्वी पर से घास खतम हो जाएगी । क्योकि शेरने बकरी को खाना बंद कर दिया है तो बकरिओ की तादात बढ़ जाएगी । फिर वह सब घास खा जाएगी । और आप मानलीजे की बकरियोने घास खाना बंद कर देगी तो। इस पृथ्वी पर फिर घास ही घास होगी । ऐसे ही प्रकृर्ति की चेन होती है । यह चेन बैलेंस बनाई हुई होती है ।

    आपको तो पत्ता ही होगा की पेड से हमे oxygen मिलता है और वह carbon dioxide लेता है । अगर आप सोचे जब पेड ही नहीं होते तो । इस पृथ्वी पर क्या जीवन होता ? प्रकृर्ति से ही हमने यह अपनी एक दुनिया बनाई है । खाने से लेकर पहने वाले कपड़ो तक । सब कुछ प्रकृर्ति से लेकर ही बनाया है । दोस्तों हम चाहे कितनी भी तरकी करले परंतु प्रकृर्ति के उपकार हम नहीं भर सकते है । हम सबको प्रकृर्ति से लगाव होना चाहिए । क्योकि प्रकृर्ति में हमने कुछ भी गड़बड़ी की या चेन टूट गई तो पृथ्वी पर जीवन का नामु निशान मिट सकता है । Essay on nature in Hindi :

    दोस्तों हमारी गुजारिस है की आप अपने जीवन में एक न एक पेड या पौधा जरूर लगाए । यह हमारी विनंती है ।


लेखनकौशल्य :

दोस्तों आपको प्रकृर्ति को देखकर जो मन में आता है वह लिखकर अपने विचार notebook में note कर सकते है ।

और जानकारी के लिए क्लिक करे !

Gravity in Hindi

Save water essay in Hindi

Leave a Reply

Your email address will not be published.